By: Bhopalmahanagar
14-03-2019 08:01

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किए जाने पर चौथी बार चीन ने अड़ंगा लगाया है। इससे नाराज संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने चेतावनी दी कि यदि चीन अपनी इस नीति पर अड़ा रहा तो जिम्मेदार सदस्य परिषद में 'अन्य कदम' उठाने पर मजबूर हो सकते हैं।

सुरक्षा परिषद के एक दूत ने चीन को असामान्य कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि यदि चीन इस कार्य में बाधा पैदा करना जारी रखता है, तो जिम्मेदार सदस्य देश सुरक्षा परिषद में अन्य कदम उठाने पर मजबूर हो सकते हैं। ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए। दूत ने अपनी पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर यह कहा। सुरक्षा परिषद में एक अन्य दूत ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ''चीन ने चौथी बार सूची में अजहर को शामिल किए जाने के कदम को बाधित किया है।'' चीन को समिति को अपना वह काम करने से रोकना नहीं चाहिए, जो सुरक्षा परिषद ने उसे सौंपा है।

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकी घोषित करने में अमेरिका की चीन को चेतावनी भी काम नहीं आई। चीन ने बुधवार देर रात चौथी बार वीटो का इस्तेमाल कर मसूद अजहर को संरक्षण दे दिया।
 

संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति में होने वाला विचार- विमर्श गोपनीय होता है और इसलिए सदस्य देश सार्वजनिक रूप से इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते। इसलिए दूतों ने भी अपनी पहचान गोपनीय रखे जाने का आग्रह किया। दूत ने कहा, ''चीन का यह कदम आतंकवाद के खिलाफ लड़ने और दक्षिण एशिया में क्षेत्रीय स्थिरता को बढ़ावा देने के उसके स्वयं के बताए लक्ष्यों के विपरीत है।

उन्होंने पाकिस्तान की जमीन पर सक्रिय आतंकवादी समूहों और उसके सरगनाओं को बचाने के लिए चीन पर निर्भर रहने को लेकर पाकिस्तान की भी आलोचना की। अमेरिकी कांग्रेस के सदस्य ब्रैड शेरमैन ने चीन के इस कदम को अस्वीकार्य करार दिया और कहा, '' चीन ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र को उस जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने से रोक दिया, जिसने फरवरी में भारत में पुलवामा हमला किया था। मैं चीन से अपील करता हूं कि वह संयुक्त राष्ट्र को अजहर पर प्रतिबंध लगाने दे। हेरिटेज फाउंडेशन के जेफ स्मिथ और अमेरिकन इंटरप्राइज इंस्टीट्यूट के सदानंद धूमे समेत अमेरिकी थिंक टैंक के कई सदस्यों ने भी चीन के इस कदम की निंदा की।

उल्लेखनीय है कि मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कराने की भारत की कोशिश को बुधवार को उस समय एक और झटका लगा जब चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा दी। फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अल कायदा सैंक्शन्स कमेटी के तहत अजहर को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को पेश किया था। 

गौरतलब है कि 14 फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 40 जवानों की मौत हो गई थी। इस हमले के कारण भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है।

Related News
64x64

चीन में बीते 3 दिनों में दो घटनाएं सामने आई हैं. बुधवार को जहां एक रासायनिक संयंत्र में भीषण विस्फोट होने से 64 लोगों की मौत हो गई, तो वहीं…

64x64

बहावलपुर। बीते दिनों पाकिस्तान का बहावलपुर जैश सरगना अजहर मसूद के ठिकाने की वजह से सुर्खियों में है। अब आतंक के इस गढ़ से एक कॉलेज प्रोफेसर को चाकू मारने…

64x64

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को सदाबहार दोस्त चीन से सोमवार तक दो अरब डॉलर का कर्ज मिल जाएगा। पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने इसकी घोषणा की है। पाकिस्तान…

64x64

न्यूजीलैंड के बाद अब ब्रिटेन में मस्जिदों पर हमला किया गया है. बर्मिंघम शहर की पांच मस्जिदों पर रात के समय हमला किया गया. इसके बाद आतंकवाद रोधी इकाई के…

64x64

गुजरात की फार्मा कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक मामले का भगोड़ा आरोपी हितेश पटेल को अल्बानिया में हिरासत में लिया गया है. स्टर्लिंग बायोटेक मामले में भारतीय जांच एजेंसियों को लंबे समय…

64x64

नानजिंग : चीन के जिआंग्सू प्रांत के यानचेंग में गुरुवार दोपहर बाद केमिकल इंडस्ट्रियल पार्क में हुए विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 47 हो गई और 600 से…

64x64

बगदाद. इराक के मोसुल में दजला (टिग्रिस) नदी में नाव पलटने से 94 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे हैं। ये लोग कुर्दिश नया साल…

64x64

बीजिंग : चीन की राजधानी बीजिंग में एक आवासीय समुदाय ने अपनी तरह का पहला ‘‘रोबोट चौकीदार’’ तैनात किया है जो लोगों के चेहरे की तस्वीरों को कैद कर सकता…