By: Bhopalmahanagar
22-03-2019 09:41

रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद से ही यह लगने लगा था कि भाजपा लोकसभा में प्रत्याशियों के चेहरे बदल देगी। इसके संकेत पिछले शनिवार को दिल्ली में आयोजित भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक से भी मिले।

इस बैठक में कोई फैसला नहीं हो पाया था लेकिन सभी सीटों पर पैनल तैयार किया गया था। अगले दिन रविवार को अमित शाह पहुंचे और उन्होंने सूची देखी। सूची में सिटिंग एमपी के साथ एक नाम और था बस। शाह ने सूची फाड़कर फेंक दी। कहा दूसरी सूची लेकर आओ। इसमें सांसदों के नाम नहीं रहेंगे।

सांसदों का टिकट कटने की घोषणा तो सोमवार को ही हो जाती मगर उसी दिन गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया और निर्णय एक दिन के लिए टल गया। मंगलवार को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद पार्टी ने टिकट काटने की घोषणा कर दी। अब सांसद और उनके समर्थक यहां रोना धोना चाहे जो मचाएं। लगता नहीं कि पार्टी का फैसला बदलेगा।

भाजपा आलाकमान का मानना है कि चुनाव तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे और काम पर लड़ा जाएगा। वर्षों से कुर्सियों पर जमे नेताओं की टिकट काटकर आम कार्यकर्ताओं को सामने लाने से संदेश अच्छा जाएगा।

आलाकमान को यह भी लगता है कि सांसदों को सामने रखकर जनता के बीच जाने से मोदी फैक्टर का प्रभाव है उसका असर कम होने का खतरा है। दरअसल भाजपा मोदी सरकार की योजनाओं के बूते जनता के बीच जाने की तैयारी में है जबकि सांसदों ने इन योजनाओं को जनता तक ले जाने में कोई रुचि ही नहीं दिखाई।

सांसद आदर्श गांव हो या उज्ज्वला, पीएम आवास, स्वच्छ भारत अभियान जैसी योजनाएं, सांसदों का इसमें कोई योगदान नहीं दिखता। केंद्रीय नेतृत्व से बार-बार पत्र लिखा गया फिर भी सांसद सक्रिय नहीं हुए।

अब दिक्कत यह है कि इन सांसदों के लिए अगर पार्टी वोट मांगने जाती तो जनता से केंद्रीय योजनाओं के फायदे पर बात करने में मुश्किल होती। अब नए चेहरे होंगे तो यह कहा जा सकता है कि पहले वाले ने काम नहीं किया इसीलिए मोदी जी ने बदल दिया।

विरोध करने की हिम्मत नहीं

भाजपा नेतृत्व के फैसले पर बगावत करने की हिम्मत सांसदों में नहीं दिख रही है। सांसदों ने गुप्त बैठक की लेकिन यह बात मानने को तैयार नहीं है। सुर यही है कि आलाकमान जो भी निर्णय लेगा हमें स्वीकार है। वैसे सांसद भी जानते हैं कि अगर उनकी सीट पर नए नेता आ गए तो उनका पत्ता हमेशा के लिए कट जाएगा। इसी बात की छटपटाहट दिख रही है।

मोदी फैक्टर के सहारे दबाएंगे विरोध

किसी को यह उम्मीद नहीं थी कि सभी सांसदों का टिकट एकमुश्त कट जाएगा। माना जा रहा था कि तीन-चार सांसद टिकट बचाने में कामयाब हो जाएंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं। भाजपा को लगता है कि मोदी फैक्टर इतना बड़ा है कि कोई विरोध करने की हिम्मत नहीं जुटा सकता। मोदी ने नाम पर कार्यकर्ता खुद ही बगावती नेताओं से निपट लेंगे।
 

Related News
64x64

रायपुर। छत्तीसगढ़ की सात लोकसभा सीटों के लिए 23 अप्रैल को मतदान होगा। इसके साथ ही राज्य के सभी 11 सीटों पर मतदान की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। बस्तर समेत…

64x64

भिलाई । जेवरा सिरसा चौकी क्षेत्र के ग्राम समोदा के राइस मिल में हुए हादसे के बाद चलाया जा रहा रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा हो चुका है। एसडीआरएफ की टीम ने…

64x64

बीजापुर । जिले के पामेड़ थाना क्षेत्र में रविवार की सुबह बीजापुर पुलिस और तेलंगाना के ग्रेहाउंड्स के जवानों ने संयुक्त अभियान के दौरान दो नक्सलियों को मार गिराया था।…

64x64

जगदलपुर। डीआरजी दो में तैनात जवान जोहन मंडावी ने अवकाश न मिलने से नाराज होकर अपनी ही मोटरसायकिल को आग के हवाले कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार दो दिन…

64x64

रायपुर। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान से ठीक तीन दिन पहले छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी के तीन नेताओं ने पार्टी छोड़कर कांग्रेस में प्रवेश…

64x64

रायपुर। दो बेरोजगार बेटियों को नौकरी लगवाने के लालच में गुढ़ियारी की एक महिला ठगी की शिकार हो गई। निजी स्कूल के संचालक ने नौकरी दिलाने का झांसा देकर महिला…

64x64

बिलासपुर । बिलासपुर में एक युवकी की फंदे पर झूलती लाश मिलने से सनसनी फैल गई है। मिली जानकारी के मुताबिक बिलासपुर के बोदरी इलाके में पूर्व विधायक सियाराम कौशिक…

64x64

बेमेतरा। शुक्रवार सुबह आठ बजे राष्ट्रीय राजमार्ग में हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई। घटना ग्राम जेवरा और रांका के बीच की है। सुबह आठ बजे मोपेड टीवीएस…