By: Bhopalmahanagar
13-04-2019 07:57

रायगढ़। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक बार रायगढ़ में अपनी सभा में समय से पहले ही पहुंच गए थे। मंच पर उस समय कोई बड़ा नेता मौजूद नहीं था तो माइक से एलान किया गया कि अटल जी आ गए हैं। यह सुनकर पार्टी के आला नेता विश्राम स्थल से दौड़ते-भागते मंच तक पहुंचे और उनका स्वागत कर विलंब के लिए खेद भी जताया। बात वर्ष 1991 के लोकसभा चुनाव से कुछ पहले की है। अटल जी उस वक्त देश में बीजेपी के सबसे लोकप्रिय चेहरा थे। रायगढ़ में पार्टी की एक विशाल रैली में उनको शामिल होना था। रैली से कुछ हफ्ते पहले ही अटल जी की बायपास सर्जरी हुई थी, इसलिए डॉक्टरों ने उनको थकान वाले कार्यक्रमों एवं धूप से बचने की नसीहत दी थी।

गर्मी के दिन थे और यह रैली शहर के इतवारी बाजार से होकर रामलीला मैदान जाने वाली थी। इसलिए तय किया गया कि अटलजी रैली के दौरान सर्किट हाउस में आराम करेंगे और सीधे मंच पर पहुंचकर मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करेंगे। अपार भीड़ के साथ रैली दोपहर 12 बजे शुरू हो गई।

सीएम सुंदरलाल पटवा, दिलीप सिंह जूदेव एवं लखीराम अग्रवाल जैसे बड़े नेता पार्टी की रैली को लीड कर रहे थे। उस समय शहर में संघ के पुराने नेता जयदयाल बेरीवाल का घर पार्टी का वार रूम की तरह था। दोपहर करीब ढाई बजे अचानक सर्किट हाउस से फोन आया कि अटल जी रैली देखना चाहते हैं। जिसके बाद कार लेकर सुगनचंद सर्किट हाउस पहुंचे और उनको साथ लेकर वहां से निकले।

अटल जी कार में बंद होकर सामान्य आदमी की तरह दूर से ही रैली का नजारा देखते रहे। उसी दौरान अटल जी ने सभा स्थल ले जाने कह दिया लेकिन उस वक्त सारे बड़े नेता रैली में थे। इसलिए समय व्यतीत करने के लिए उनको एक चौक से दूसरे चौक तक घुमाया जाता रहा लेकिन अटल जी इस वाक्ये को भांप गए और उन्होंने तपाक से कह दिया कि आप मुझे रायगढ़ की सड़कें मत दिखाइए। रैली दिखाकर मंच तक ले चलिए। कोई बात नहीं मै पहले ही पहुंच जाता हूं और वाजपेयी जी मंच पर पहले ही पहुंच गए।

मारुति वैन से घूमा था शहर 

सर्किट हाउस से जब फोन आया तो उस वक्त अटल जी को रिसीव करने के लिए कोई वाहन नहीं था। पार्टी के तत्कालीन कार्यकर्ता नटवर रतेरिया ने अपनी मारूति वैन निकाली और सुगनचंद फरमानिया यह मारूति वैन लेकर सर्किट हाउस पहुंचे । रैली से पहले नहीं पहुंचना था इसलिए वैन घंटे भर तक पैलेस रोड, चांदनी चौक, गांजा चौक, कोतवाली से लेकर लालटंकी रोड जैसे व्यस्त मार्गों में घूमती रही।

दौड़ते-भागते मंच पर पहुंचे नेता 

रैली के तय कार्यक्रम के अनुसार सभी बड़े नेताओं को सत्ती गुड़ी चौक में एक पदाधिकारी के यहां क्षणिक विश्राम करना था, लेकिन अटल जी सरप्राइज देते हुए सबसे पहले सभा स्थल पहुंच कर मंच पर विराजमान हो गए। उस वक्त कोई नेता वहां नही पहुंच सका था, जिसके बाद मंच से एलान किया गया कि अटल जी आ गए हैं और ऐसा सुनते ही सारे नेता इस चौक से दौड़कर मंच तक पहुंचे।
 

Related News
64x64

रायपुर । बिजनेस को बढ़ाना है तो एक बार इंटरनेशल इंफार्मेशन टेक्नोलॉजी (ट्रिपलआइटी) के बनाए सॉफ्टवेयर का उपयोग करें। बीटेक के छात्र अमन कुमार और मयंक कुमार गिरी ने 'मैं'…

64x64

कांकेर। कोरर थाना क्षेत्र के तुयेगुहान गांव में शादी की पार्टी में खाना खाने के बाद लोगों को उल्टियां होने लगीं और देखते-देखते करीब सौ से ज्यादा लोग विषाक्त भोजन…

64x64

रायपुर। चुनावी बिसात में सिपहसालार जंग जीतने के लिए मतदाताओं के बीच अपनापन जता रहे हैं। प्रचार के दौरान खान-पान की भी व्यवस्था देख रहे हैं। कई प्रत्याशियों ने बताया…

64x64

बैकुंठपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहुस्र्पिया हैं। मोदी जहां जाते हैं, वहीं अपना संबंध बताने लगते हैं। प्रधानमंत्री…

64x64

अंबिकापुर । सरगुजा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे 10 प्रत्याशियों ने द्वितीय चरण का व्यय लेखा का मिलान करा लिया है। प्रशासनिक स्तर पर गठित टीमों द्वारा प्रत्याशियों के…

64x64

रायपुर। बैंकों द्वारा इन दिनों पैसे जमा करने से लेकर पैसे निकालने तक का शुल्क लिया जा रहा है। सबसे ज्यादा उपभोक्ताओं के लिए दुखदायी बात है बचत खाते में…

64x64

रायपुर। होली के आठ दिन पूर्व 14 मार्च को होलाष्टक और इसी दिन से अशुभ माने जाने वाले मीन मलमास शुरू होने से विवाह पर ब्रेक लगा हुआ था। एक…

64x64

रायपुर। एम्स में वार्ड ब्वाय, वार्ड गर्ल, आया बाई और नर्सिंग में नौकरी दिलाने के नाम पर सैकड़ों बेरोजगार युवक-युवतियों से लाखों की ठगी का मामला सामने आया है। आरोपित…